मुझे भी सिखा दो भूल जाने का हुनर,
मैं थक गया हूँ हर लम्हा तुझे याद करते करते…!!
———————————————-
कल की रात का आलम इस कदर था यारों,
उसकी यादों ने मेरी आँखों को सोने ना दिया…!!
———————————————-
बिन तेरे यूँ तो हम अधूरे नहीं है,
पर जाने फ़िर भी क्यूँ हम पूरे नहीं है…!!
———————————————-
मैंने एक हँसते हुए गरीब को देखा,
काफी दौलत थी उसके चहेरे पे…!!
———————————————-
दिल तो उसका भी रोया होगा,
जब उसने सच्चे चाहने वाले को खोया होगा…!!http://www.whatsappshayari.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *