किसी से आप अपने जैसे होने की उम्मीद मत रखिये,
क्योंकि आप सीधे हाथ में किसी का सीधा हाथ पकड़ कर नहीं चल सकते…!!
————————————————-
आदत थी मेरी सबसे हंस के बोलना,
मेरा शौक ही मुझे बदनाम कर गया…!!
————————————————-
शब्द का वजन तो बोलने के भाव से पता चलता है,
बाकी वेलकम  तो पायदान पर भी लिखा होता है…!!
————————————————-
अक्सर जिसकी हँसी खुबसूरत होती है,
उसके जख्म भी काफी गहरे होते है…!!
————————————————-
चल रहें हैं ज़माने भर में रिश्वतों के सिलसिले,
कुछ तुम भी ले दे कर हमसे मोहब्बत कर लो…!!http://www.whatsappshayari.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *